तुम हो...

शहर है,
बात है,
पानी है, भूख है,
शरीर है, हो तुम।
तुम हो।

टीन कनस्तर है,
पत्थर पलस्तर है,
नींद अंगड़ाई है,
मेंहदी है, काई है,
चमचम चमाचम है,
रोएँगे, मातम है,
मातम है, हो तुम।
तुम हो।

कारें हैं, छींटे हैं,
गारा है, ईंटें हैं,
ताले हैं, जाले हैं,
माँगी मशालें हैं,
कितनी उधारी है,
चाय भी भारी है।
चाय भी भारी है, हो तुम।
तुम हो।

आँगन है,
छाजन है,
कुर्सी है,
बासन है,
टिकटिक है,
झिकझिक है,
रातें बारातें हैं,
उल्लू है, जुगनू है।
जुगनू है, हो तुम।
तुम हो।



आप क्या कहना चाहेंगे? (Click here if you are not on Facebook)

12 पाठकों का कहना है :

sanjaygrover said...

UUB HAI KHEEJ HAI
TUU BHI KYA CHEEZ HAI
KAMIZ BEKAMIZ HAI
TAMIZ BAD-TAMIZ HAI

FIR BHI TAHZEEB HO TUM
TUM HO!
HO KYA!?

सुशील कुमार छौक्कर said...

सच पूछिए गौरव जी कभी कभी तो आपसे जलन होने लगती हैं। सच अद्भुत है आपका लिखा।

सुशील कुमार छौक्कर said...

सच पूछिए गौरव जी कभी कभी तो आपसे जलन होने लगती हैं। सच अद्भुत है आपका लिखा।

neeraj badhwar said...

bahut badhiya

gaurav ahuja said...

टीन कनस्तर है,
पत्थर पलस्तर है,
नींद अंगड़ाई है,
मेंहदी है, काई है,

bahut achcha...

kavita padkar alag tarah ki khushi mili...bahut achcha..

bhawna....anu said...

chalo achha hai....koi to hai:)...................sunder...lekin udaas,par udas bhi sunder hota hai.keep writing.

विक्षुब्ध सागर said...

राग है , विराग है,
धुआं है, आग है,
सुर है, ताल है,
ख़बरों का मकड़जाल है,
फसेंगे , वक्त की साजिश है,
मेरी गुजारिश है,
गुजारिश है, हो तुम
तुम हो !

neera said...

हो तुम!
तुम हो!

क्या बात है?

प्रशांत मलिक said...

gmail hai
chat hai
orkut hai
scraps hain
phone hai
tumhara no. hai
tumhare ghar ka no. hai
sms hai
missed calls hai
uske baad calls hain
phir calls pe calls hain
phir switched off hai
ho tum
tum ho bhi kya

विश्व दीपक ’तन्हा’ said...

तुकबंदी करने का अच्छा प्रयास।
भाव भी सही है।

लिखते रहो।
-विश्व दीपक

विश्व दीपक ’तन्हा’ said...

तुकबंदी करने का अच्छा प्रयास।
भाव भी सही है।

लिखते रहो।
-विश्व दीपक

अनिल कान्त : said...

चलो अच्छा है इन सब के साथ ...वो एहसास तो है कि तुम हो ....
अच्छा लिखा है मेरे दोस्त

अनिल कान्त
मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति